गुरु की केंद्रीय स्थिति

आज सुबह ही नेपथ्य में #चांद से मेंरी मुलाकात हुई। मैंने पूछा कि कहाँ हो आजकल? जल्दी दिखाई नहीं देते| और तो और सूरज को भी देखे हुए कई दिन हो गए| तुम दोनों मिलकर कहीं कोई प्लानिंग तो नहीं कर रहे? उसने कहा अरे अब क्या बताऊँ, #उत्तरप्रदेश का #चुनाव और उसी समय #शनि …

Continue reading गुरु की केंद्रीय स्थिति

आजादी का अमृत रंग

एक तरफ देश आजादी के अमृत महोत्सव रंग में रंगता चला जा रहा है वहीं दूसरी तरफ ग्रहों ने भी बृहष्पति के मार्गदर्शन में एक नया रंग, अमृत रंग की रचना करनी शुरू कर दी है। 2023 वह वर्ष होगा जब इस रंग से हमारी वर्तमान शिक्षा व्यवस्था ( मैकाले व्यवस्था), अर्थ व्यवस्था और न्याय …

Continue reading आजादी का अमृत रंग

स्वयं के राह का निर्माता

स्वयं के राह का निर्माता "महाजनो येन गतः स पन्था" जिस रास्ते पर महापुरुष, बड़े लोग, समझदार लोग चले हैं मनुष्यों को उसी रास्ते पर चलना चाहिए- दादा जी ने शिवि को समझते हुए कहा| लेकिन क्यों बाबा? हम क्यों किसी और के चले रास्ते पर चलें? ऐसा इसलिए बेटा कि वे लोग जिन मार्गों …

Continue reading स्वयं के राह का निर्माता

शिक्षा और नौकरी

फोटो, साभार: google स्कूली दोस्त, संजय वैसे तो सभी विषयों में ठीक ठाक था पर संस्कृत के नाम पर भाग जाता था । इससे जब कहा जाता कि थोड़ा संस्कृत भी पढ़ लो, तब पटोत्तर सुनाते हुए कहता .. संस्कृत पढ़ने की जो बात करोगे .. कापी फाड़ फेंक दूँगा… कलम तोड़ ..दावात उलट..स्याही तुझे …

Continue reading शिक्षा और नौकरी