आजादी का अमृत रंग

एक तरफ देश आजादी के अमृत महोत्सव रंग में रंगता चला जा रहा है वहीं दूसरी तरफ ग्रहों ने भी बृहष्पति के मार्गदर्शन में एक नया रंग, अमृत रंग की रचना करनी शुरू कर दी है। 2023 वह वर्ष होगा जब इस रंग से हमारी वर्तमान शिक्षा व्यवस्था ( मैकाले व्यवस्था), अर्थ व्यवस्था और न्याय …

Continue reading आजादी का अमृत रंग

ब्रह्मांड का रहस्य

इस ब्रह्माण्ड में सब एक दूसरे से जुड़े हुए हैं (Interlinked Destiny) ज्योतिष शास्त्र के कुछ महत्वपूर्ण सूत्रों पर चर्चा के पहले एक कथा में प्रवेश करें- एक गांव में पंडित बुद्धि बाबू अपनी पत्नी के साथ वास करते थे| दस टोले का गांव था|सप्ताह में, महीने में कभी किसी के यहाँ सत्यनारायण की कथा …

Continue reading ब्रह्मांड का रहस्य

‘धन’ तेरस ( 2 नवंबर 2021 मंगलवार)

कोरोना को लेकर इस वर्ष लोगों की सेहत तो संकट में है ही, घरों से लक्ष्मी भी गायब है| ऐसे में धनतेरस की चर्चा प्रासंगिक हो जाती है| धनतेरस क्या है इसको जानने के साथ साथ धनतेरस के 'धन'  का क्या है गूढ़ अर्थ यह जानेंगे साथ ही ज्योतिष शास्त्र  क्या कहता है धन के …

Continue reading ‘धन’ तेरस ( 2 नवंबर 2021 मंगलवार)

ज्योतिष – जीवन का GPS

फोटो, साभार: Google आधान लग्न ( गर्भाधान लग्न) पर पिछले कुछ वर्षों से निरंतर शोध करने के पश्चात एक बात जिसकी पुनरावृति होती रही वह रहा चतुर्थांश| जन्म लग्न और नवांश तो फिर भी समझ में आता था पर चतुर्थांश की पुनरावृति क्यों? कुंडली में चतुर्थांश का विश्लेषण हम मुख्यतया मकान देखने हेतु करते हैं, …

Continue reading ज्योतिष – जीवन का GPS

चंद्र (MOON)

नंदी ..ओ ..नंदी .. कहाँ हो.. मामा के घर से घूम के आने के बाद अब कुछ पढ़ भी लो| दो महीने होने को आये,ज्योतिष की क्लास भी नहीं लगी है तुम्हारी| कुछ याद भी है या सबकुछ भूल भल गयी? कुछ नहीं भूले हैं बाबा| सब याद है| बस आ गए कॉपी कलम लेके| …

Continue reading चंद्र (MOON)

दहीवड़ा

दहीवड़ा बनाते वक़्त अगर हम वड़े को कड़ाही में से तल कर निकालने के बाद थोड़ी देर पानी में रख कर न निचोड़ें तो वह कड़ा और कठोर ही रह जाता है, उसमें कोमलता नहीं आती है| उसके भीतर रस का प्रवेश नहीं होता है| वह टूट जाता है| खाने में कोई स्वाद नहीं आता| …

Continue reading दहीवड़ा

पीपल और हम ( मनुष्य )

हमारे यहाँ अनेक धार्मिक अवसरों पर पीपल वृक्ष के पूजन का विधान है| पीपल में पितरों का वास माना गया है| आखिर पीपल के वृक्ष को हमारे यहाँ इतनी महत्ता क्यों प्रदान की गयी है?? क्या सिर्फ इसी  वजह से या इस वजह से कि यह चौबीसों घंटे जीवन प्रदायिनी ऑक्सीजन उत्सर्जित करता है?? हमदोनों …

Continue reading पीपल और हम ( मनुष्य )