ज्योतिष – जीवन का GPS

फोटो, साभार: Google आधान लग्न ( गर्भाधान लग्न) पर पिछले कुछ वर्षों से निरंतर शोध करने के पश्चात एक बात जिसकी पुनरावृति होती रही वह रहा चतुर्थांश| जन्म लग्न और नवांश तो फिर भी समझ में आता था पर चतुर्थांश की पुनरावृति क्यों? कुंडली में चतुर्थांश का विश्लेषण हम मुख्यतया मकान देखने हेतु करते हैं, …

Continue reading ज्योतिष – जीवन का GPS

अफ़ग़ानिस्तान पर तालिबानियों के कब्जे का भारत पर प्रभाव

17 अगस्त को अफ़ग़ानिस्तान पर तालिबानी कब्जे के बाद पहली बार उनके प्रवक्ता जबीहुल्लाह मुजाहिद ने प्रेस कांफ्रेंस के जरिये विश्व से संवाद स्थापित किया| बात का सार यह था कि जो कोई भी इस्लाम के नियम से चलेगा उसे यहाँ कोई परेशानी नहीं होगी|लोगों के जीवन जीने का ढंग, रहन-सहन सब उनकी धार्मिक आस्थाओं …

Continue reading अफ़ग़ानिस्तान पर तालिबानियों के कब्जे का भारत पर प्रभाव

सूर्य और चंद्र का महत्व

किसी भी व्यक्ति की कुंडली का ज्योतिषीय  विश्लेषण करना हो या प्रकृति का ज्योतिषीय विश्लेषण करना हो तो सर्वप्रथम सूर्य और चंद्र का सूक्ष्मता से विश्लेषण किया जाता है| ज्योतिषशास्त्र में  आखिर नौ ग्रहों में सबसे पहले इन दोनों का विश्लेषण ही क्यों किया जाता है?? इन दोनों का क्या है महत्व?? संसार और शरीर …

Continue reading सूर्य और चंद्र का महत्व

दहीवड़ा

दहीवड़ा बनाते वक़्त अगर हम वड़े को कड़ाही में से तल कर निकालने के बाद थोड़ी देर पानी में रख कर न निचोड़ें तो वह कड़ा और कठोर ही रह जाता है, उसमें कोमलता नहीं आती है| उसके भीतर रस का प्रवेश नहीं होता है| वह टूट जाता है| खाने में कोई स्वाद नहीं आता| …

Continue reading दहीवड़ा

आषाढ़ पंचमी

फोटो, साभार: Google ज्योतिषशास्त्र कभी भी एकांगी होकर बात नहीं करता है| कभी भी एक सूत्रीय फार्मूला नहीं देता है| मानसून में कितनी होगी बारिश इसके फलादेश हेतु सूर्य के धनु राशि में प्रवेश से ही बहुआयामी विश्लेषण करना प्रारम्भ किया जाता है| इन सभी के बारे में मैंने पहले यहाँ चर्चा की है|  इसी …

Continue reading आषाढ़ पंचमी

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

योग - सम्पूर्ण विश्व को भारत की देन जिस क्षण हम मन में दुनिया को लीन करके के बाद मन के साथ एकात्म स्थापित कर लेंगे उसी क्षण योगेश्वर कृष्ण हमें कहेंगे "यथेच्छसि तथा कुरु "| आइये योगमय हो जाएं!! युक्ताहारविहारश्चयुक्तचेष्टश्चकर्मसु |युक्तस्वप्नअवबोधश्चयोगोभवतिदु:खहा|| तं विद्याद्दु:खसंयोगवियोगं योगसंज्ञितम्| “योगस्थ: कुरु कर्माणि सङ्गं त्यक्त्वा धनञ्जय। सिद्ध्यसिद्ध्यो: समो भूत्वा समत्वं …

Continue reading अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

जीवन.. प्रवाह (Flowchart)

FLOWCHART - "a diagram that shows the stages of a process" फ्लोचार्ट के माध्यम से, किसी भी प्रक्रिया के भिन्न भिन्न अवस्थाओं को सरल और सहज तरीके से  समझा जा सकता है| ज्योतिष में, जीवन के भिन्न भिन्न अवस्थाओं को कुंडली( flowchart) के माध्यम से बड़ी ही सरलता और सहजता से समझा जाता है|  "पश्यन्शृण्वन्स्पृशन्जिघ्रन्नश्नन्गच्छन्स्वपन्श्वसन्" …

Continue reading जीवन.. प्रवाह (Flowchart)