कर्मनाशा/ Negative Feedback

मान्यता है कि नदी में स्नान करने से मनुष्य के सारे पाप धुल जाते हैं लेकिन कर्मनाशा नदी में स्नान करने से मनुष्य के सारे पुण्य धुल जाते हैं अर्थात पुण्य समाप्त हो जाते हैं| ये तो उल्टा ही हो गया| नदी स्नान से सारे पाप धुलने के बजाय सारे पुण्य ही धुल जाते हैं| …

Continue reading कर्मनाशा/ Negative Feedback

वैलेंटाइन डे

आज सुबह से वशिष्ठ बाबू लोगों से घिरे हुए हैं| नंदी सुबह से तीन बार कोशिश कर चुकी है अपने बाबा से बात करने की लेकिन हो ही नहीं पा रहा है| मामा से जाकर नंदी पूछी, क्या बात है मामा आज बाबा को भोरे भोरे कौन लोग आकर घेर लिए हैं| मामा बोली, अरे …

Continue reading वैलेंटाइन डे

माँ सरस्वती

हमारे विचारों की संवाहिका माँ शारदा और हमें कुशल बनाने वाली माँ सरस्वती माघ शुक्ल पंचमी को वसंत पंचमी का त्योहार मनाया जाता है| इस दिन माँ सरस्वती की पूजा और माँ के शारदा रूप की पूजा की जाती है| माँ सरस्वती हमने बचपन से सरस्वती का जो रूप देखा है उसमें , श्वेत कमल …

Continue reading माँ सरस्वती

गोविंदाय नमोनमः

का हुआ वशिठ चाचा| इ भोरे भोरे कपार पर हाथ रख कर का बुदबुदा रहे हैं| क्या सोच रहे हैं बाबा? कल से देख रहे हैं आप एकदम गुमशुम होकर कुछ सोचते हैं फिर कुछ बुदबुदाते हुए लिखने लगते हैं, रामदीन चाचा के साथ साथ नंदी ने भी अपने बाबा से पूछा| कुछ नहीं बउआ, …

Continue reading गोविंदाय नमोनमः

गुरु की केंद्रीय स्थिति

आज सुबह ही नेपथ्य में #चांद से मेंरी मुलाकात हुई। मैंने पूछा कि कहाँ हो आजकल? जल्दी दिखाई नहीं देते| और तो और सूरज को भी देखे हुए कई दिन हो गए| तुम दोनों मिलकर कहीं कोई प्लानिंग तो नहीं कर रहे? उसने कहा अरे अब क्या बताऊँ, #उत्तरप्रदेश का #चुनाव और उसी समय #शनि …

Continue reading गुरु की केंद्रीय स्थिति

चंद्र (MOON)

नंदी ..ओ ..नंदी .. कहाँ हो.. मामा के घर से घूम के आने के बाद अब कुछ पढ़ भी लो| दो महीने होने को आये,ज्योतिष की क्लास भी नहीं लगी है तुम्हारी| कुछ याद भी है या सबकुछ भूल भल गयी? कुछ नहीं भूले हैं बाबा| सब याद है| बस आ गए कॉपी कलम लेके| …

Continue reading चंद्र (MOON)

ग्रह शांति

फोटो, साभार: Google रामप्रीत दा, ई मुंह अन्हारे कहाँ चले दिए .. अरे कुछ नहीं ज्ञानी  ..कुछ समय से बड़ी परेशानी में हैं। किसी का कुछ बिगाड़े भी नहीं हैं न किसी को कोई तकलीफ दे रहे हैं फिर भी न जाने काहे कोई भी काम करते हैं सब उलटा ही हो जाता है। कर्जा …

Continue reading ग्रह शांति