आने वाले वर्ष ( 2022 ) का सन्देश

आज का यह आलेख एक असहनीय पीड़ा में लिखा जा रहा है| अभी अभी एक दुर्घटना में देश ने अपने रक्षा प्रमुख के साथ साथ देश के अप्रतिम वीरों को खोया है| असहनीय पीड़ा इसलिए भी कि ग्रहों और प्रकृति के द्वारा बार बार इस तरह की दुर्घटना का संकेत दिए जाने के बाद भी …

Continue reading आने वाले वर्ष ( 2022 ) का सन्देश

ब्रह्मांड का रहस्य

इस ब्रह्माण्ड में सब एक दूसरे से जुड़े हुए हैं (Interlinked Destiny) ज्योतिष शास्त्र के कुछ महत्वपूर्ण सूत्रों पर चर्चा के पहले एक कथा में प्रवेश करें- एक गांव में पंडित बुद्धि बाबू अपनी पत्नी के साथ वास करते थे| दस टोले का गांव था|सप्ताह में, महीने में कभी किसी के यहाँ सत्यनारायण की कथा …

Continue reading ब्रह्मांड का रहस्य

अपने स्वास्थ्य के नियंता स्वयं बनिए

कोरोना संक्रमण से बाहर आने के बाद सोचती कि अब लिखना शुरू करना है, कोई ऐसी खबर आ जाती कि फिर लिखना रह ही जाता था| लेकिन इससे हमें बाहर तो आना होगा| इस तरह तो जिया नहीं जा सकता| हिम्मत करके मैंने लिखने का मन बनाया है| इस आलेख को लिखने के पीछे कुछ …

Continue reading अपने स्वास्थ्य के नियंता स्वयं बनिए

हृदय रोग(Heart Disease) से कैसे रहें दूर

फोटो, साभार: गूगल वसुधैव कुटुंबकम की बात करने वाला देश भारत का दिल क्या इतना मजबूत है कि वह पूरी बसुधा को एक परिवार की भांति रख सके| एक सर्वे के अनुसार विश्व के कुल हृदय रोगियों में 60 प्रतिशत सिर्फ भारत में हैं| चौंकाने वाली बात यह है कि बच्चों में दिल की बीमारी …

Continue reading हृदय रोग(Heart Disease) से कैसे रहें दूर

मादक द्रव्य का सेवन (व्यसन) और युवा पीढ़ी का भटकाव – शास्त्रीय समाधान

फोटो, साभार: google भारतीय युवा पीढ़ी में मादक द्रव्यों का बढ़ता सेवन चिंता का विषय है| यह एक गंभीर समस्या का रूप धारण करती जा रही है| व्यसन क्या है और कैसे स्वयं के प्रयास से इससे मुक्त हुआ जा सकता है इसे आज हमलोग रामचरितमानस और भगवद्गीता के माध्यम से जानेंगे| इसका ज्योतिषीय पक्ष …

Continue reading मादक द्रव्य का सेवन (व्यसन) और युवा पीढ़ी का भटकाव – शास्त्रीय समाधान

यह वक़्त भी बदल जायेगा

   एक बार किसी विद्वान व्यक्ति से पूछा गया कि एक ऐसा वाक्य बोलो जिससे कि जो व्यक्ति सुखी है वह दुखी हो जाये और जो व्यक्ति दुखी है वह सुखी हो जाये| उसने कहा "यह वक़्त भी बदल जायेगा"| आज काल के जिस पड़ाव पर हम सब खड़े हैं वहां हर एक व्यक्ति के …

Continue reading यह वक़्त भी बदल जायेगा

Depression(अवसाद)-कारण और निदान

एक हल्की सी लहर ..और सबकुछ समाप्त.. क्यों ? आखिर क्यों ?? क्यों हम पहले तनाव ग्रस्त होते हैं फिर मानसिक अवसाद में जाते हैं और अंततः आत्महत्या को अपना संगी बनाकर चल पड़ते हैं .. और कोई संगी क्यों नहीं बनता ?? कारण क्या ?? ????????? भौतिक रूप से इतने विकसित होकर भी, क्या …

Continue reading Depression(अवसाद)-कारण और निदान