गुरु की केंद्रीय स्थिति

आज सुबह ही नेपथ्य में #चांद से मेंरी मुलाकात हुई। मैंने पूछा कि कहाँ हो आजकल? जल्दी दिखाई नहीं देते| और तो और सूरज को भी देखे हुए कई दिन हो गए| तुम दोनों मिलकर कहीं कोई प्लानिंग तो नहीं कर रहे? उसने कहा अरे अब क्या बताऊँ, #उत्तरप्रदेश का #चुनाव और उसी समय #शनि …

Continue reading गुरु की केंद्रीय स्थिति

वर्ष 2022 कैसा रहेगा देश के लिए: एक ज्योतिषीय विश्लेषण

किसी चीज को जानना ज्ञान है, उसे पहचानना विज्ञान है और उसके साथ एकात्म स्थापित करना ज्योतिष है| समग्रता और विविधता के बीच का एकात्म ज्योतिष है| ज्योतिष के अनुसार भले ही सारी चीजें भिन्न भिन्न प्रतीत होती हैं लेकिन उस विविधता के भीतर एकत्व कार्य कर रहा है| जब यह एकत्व स्थापित हो जाता …

Continue reading वर्ष 2022 कैसा रहेगा देश के लिए: एक ज्योतिषीय विश्लेषण

आने वाले वर्ष ( 2022 ) का सन्देश

आज का यह आलेख एक असहनीय पीड़ा में लिखा जा रहा है| अभी अभी एक दुर्घटना में देश ने अपने रक्षा प्रमुख के साथ साथ देश के अप्रतिम वीरों को खोया है| असहनीय पीड़ा इसलिए भी कि ग्रहों और प्रकृति के द्वारा बार बार इस तरह की दुर्घटना का संकेत दिए जाने के बाद भी …

Continue reading आने वाले वर्ष ( 2022 ) का सन्देश

आजादी का अमृत रंग

एक तरफ देश आजादी के अमृत महोत्सव रंग में रंगता चला जा रहा है वहीं दूसरी तरफ ग्रहों ने भी बृहष्पति के मार्गदर्शन में एक नया रंग, अमृत रंग की रचना करनी शुरू कर दी है। 2023 वह वर्ष होगा जब इस रंग से हमारी वर्तमान शिक्षा व्यवस्था ( मैकाले व्यवस्था), अर्थ व्यवस्था और न्याय …

Continue reading आजादी का अमृत रंग

लंबा चल सकता है किसान-सरकार संघर्ष

 का हाल बा भैया? सब ठीक बा न? भोरे भोर तोहार माथा पर ई परेशानी के निशान कहेला देखा रहल है?? घर, परिवार में सब ठीक है न? बच्चा सिंह ने सुबह की सैर पर टुनटुन सिंह से पूछा| हाँ रे बच्चा, घर, परिवार में त सब ठीके है- टुनटुन सिंह ने धीमे स्वर में …

Continue reading लंबा चल सकता है किसान-सरकार संघर्ष