गुरु की केंद्रीय स्थिति

आज सुबह ही नेपथ्य में #चांद से मेंरी मुलाकात हुई। मैंने पूछा कि कहाँ हो आजकल? जल्दी दिखाई नहीं देते| और तो और सूरज को भी देखे हुए कई दिन हो गए| तुम दोनों मिलकर कहीं कोई प्लानिंग तो नहीं कर रहे? उसने कहा अरे अब क्या बताऊँ, #उत्तरप्रदेश का #चुनाव और उसी समय #शनि …

Continue reading गुरु की केंद्रीय स्थिति

वर्ष 2022 कैसा रहेगा देश के लिए: एक ज्योतिषीय विश्लेषण

किसी चीज को जानना ज्ञान है, उसे पहचानना विज्ञान है और उसके साथ एकात्म स्थापित करना ज्योतिष है| समग्रता और विविधता के बीच का एकात्म ज्योतिष है| ज्योतिष के अनुसार भले ही सारी चीजें भिन्न भिन्न प्रतीत होती हैं लेकिन उस विविधता के भीतर एकत्व कार्य कर रहा है| जब यह एकत्व स्थापित हो जाता …

Continue reading वर्ष 2022 कैसा रहेगा देश के लिए: एक ज्योतिषीय विश्लेषण

ज्योतिष की पहचान

ज्योतिष ऐसे ही Identity Crisis से नहीं गुजर रहा है| अब देखिये न एक जनवरी के आने से पहले ही ज्योतिष के नाम पर बाजार में राशि फल कथन का भोग परोसा जा चुका है| मेष राशि वालों के लिए ऐसा होगा यह साल, तुला राशि वालों के लिए ऐसा होगा यह साल, मीन राशि …

Continue reading ज्योतिष की पहचान

आने वाले वर्ष ( 2022 ) का सन्देश

आज का यह आलेख एक असहनीय पीड़ा में लिखा जा रहा है| अभी अभी एक दुर्घटना में देश ने अपने रक्षा प्रमुख के साथ साथ देश के अप्रतिम वीरों को खोया है| असहनीय पीड़ा इसलिए भी कि ग्रहों और प्रकृति के द्वारा बार बार इस तरह की दुर्घटना का संकेत दिए जाने के बाद भी …

Continue reading आने वाले वर्ष ( 2022 ) का सन्देश

सर्वे जना: सुखिनो भवन्तु !!

फोटो, साभार: Google नक्सली मुठभेड़ के साये में गुरु राशि परिवर्तन करके शनि की ही राशि कुंभ राशि में जाकर चंद्र शुक्र शनि केतु और राहु के साथ मिलकर deadly combination तैयार करेगा। हालांकि इसे मंगल और सूर्य का समर्थन नहीं प्राप्त होने की वजह से.. threat may not materialize ... लेकिन दिसंबर माह में …

Continue reading सर्वे जना: सुखिनो भवन्तु !!

कलयुग का यह काल

कृपाचार्य ने जब अर्जुन के साथ कर्ण के युद्ध पर सवाल उठाए थे तब दुर्योधन ने कर्ण को अंगेश बनाकर न केवल कृपाचार्य के सवालों का जवाब दिया बल्कि आजीवन कर्ण को अपना ॠणी बनाया। कर्ण और दुर्योधन की दोस्ती की नींव डली । महाभारत काल में यह एक महत्वपूर्ण और निर्णायक मोड़ है। कलयुग …

Continue reading कलयुग का यह काल

आषाढ़ पंचमी

फोटो, साभार : Google ज्योतिषशास्त्र कभी भी एकांगी होकर बात नहीं करता है| कभी भी एक सूत्रीय फार्मूला नहीं देता है| मानसून में कितनी होगी बारिश इसके फलादेश हेतु सूर्य के धनु राशि में प्रवेश से ही बहुआयामी विश्लेषण करना प्रारम्भ किया जाता है| इन सभी के बारे में मैंने पहले यहाँ चर्चा की है| …

Continue reading आषाढ़ पंचमी