नयी व्यवस्था- नया भारत

भारतवर्ष की चलनेवाली दशा और ग्रहों के संचार के आधार पर 9 दिसंबर 2019 को मैंने अपने आलेख ‘2020’, में यह लिखा – ‘ चुनावी प्रक्रिया को लेकर महत्वपूर्ण संवैधानिक संशोधन का संकेत है..’

हम सब जानते हैं कि इस तरह की घटनाएं रातों रात नहीं होती|

इस वर्ष ( 2022 ) के चैत्र शुक्ल प्रतिपदा की कुंडली पुनः इस बात का तीव्र समर्थन करते दिख रहे हैं|

लेकिन दशा का मजबूत समर्थन नहीं है|

आगे कब ?

जुलाई 2023 में भारत की दशा बदलकर चंद्र/ शुक्र की होगी|

दशांश में इन ग्रहों की युति से बनने वाले योग एवं चैत्र शुक्ल प्रतिपदा की कुंडली के अनुसार 2023 जुलाई के बाद उपरोक्त वर्णित फलादेश की पूर्णाहुति होने का संकेत मिल रहा है|

युगांतकारी परिवर्तन के आसार नजर आ रहे हैं|

हालाँकि मेरे पास माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी साहब की कुंडली नहीं है और न ही राजनीती की गहरी समझ है| तो राजनीती पर अपनी गहरी पकड़ रखने वाले गुणी जनों से मेरा निवेदन है कि इस क्रांतिकारी परिवर्तन को समझने में मेरी मदद करें|